भारत और चीन एक-दूसरे को हरा नहीं सकते: डोकलाम विवाद पर दलाई बोले

मुंबई.    बॉर्डर पर मौजूदा तनाव को लेकर तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा ने सोमवार को कहा कि भारत और चीन एक-दूसरे को नहीं हरा सकते। दोनों देश सैन्य तौर पर ताकतवर हैं। दोनों तरफ से फायरिंग की घटनाएं हो सकती हैं, लेकिन इससे फर्क नहीं पड़ता। दोनों को अच्छे पड़ोसी बनकर रहना होगा। 'हिंदी-चीनी भाई भाई' की भावना ही आगे बढ़ने का रास्ता है। बता दें कि सिक्कम सेक्टर के डोकलाम इलाके में करीब 2 महीने से भारत और चीन के बीच सीमा विवाद चल रहा है। आज चीन बदल रहा है...
 
- पत्रकारों के जवालों पर दलाई ने कहा, ''1951 में तिब्बत में शांति के लिए चीन के साथ 17 प्वाइंट का एग्रीमेंट हुआ था। आज चीन बदल रहा है और बौद्ध धर्म को मानने वाला सबसे बड़ा देश बनकर उभरा है। वहां कम्युनिस्ट सरकार है, लेकिन बौद्ध धर्म को आगे बढ़कर स्वीकार किया। भारत और चीन को फिर से हिंदी-चीनी भाई भाई के रास्ते पर चलना होगा।''   
- ''पहले दलाई लामा तिब्बत में धार्मिक और राजनीतिक मूवमेंट के मुखिया होते थे। लेकिन 2011 में मैंने खुद को राजनीति से अलग कर लिया, क्योंकि इसमें कुछ सामंतवादी तत्व शामिल थे।''
 
 
आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

Read more: https://www.bhaskar.com/news/NAT-NAN-ind...

Actual news in your location